अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.29.2018


नई पीढ़ी की पाठकीय आकांक्षाएँ

पॉपुलर बनाम क्लासिक की बहस
एक नया फिनोमिना है
बाज़ार तूलिका मापेगी उसे

कोई भी रोमांचक भाव रह-रहकर कर उभरेगा
अथवा
मनोरंजन की क्षमता बलवती होगी
कि सहसा बह उठेगी 'यो-यो' की बहार..

तब 'बुद्धिजीवी युवा पाठक'
जीवन-दर्शन की इस नई धुन को
स्वागत योग्य कहेगा
और नकार देगा
'शुद्धतावाद' को

जब बयार थम जाएगी
तब फिर से
ग्लोबलाइज़ेशन के फ़ायदे गिनाने वाली पॉपुलैरिटी
ढूँढ़ेगी इतिहास में अपने अस्तित्व को
पर चेतना की नई परतों और नए आयामों में
गुम मिलेगी
पॉपुलर बनाम क्लासिक की बहस

चूँकि महज़ एक बड़ा भ्रम है बाज़ार
श्रेष्ठता का मापदंड नहीं..।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें