अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.06.2014


तुम्हारी बात

शाम चुपचप ढलती जाती है
तुम्हारी बात चलती जाती है

आँख को न था हादसों पे यकीं
न वो हँसती, न रोने पाती है

देख के चंद सितारों का रुख
कश्ती तूफ़ाँ में बढ़ती जाती है

लेके हाथों में वो सूखे गज़रे
ज़िंदगी ग़ज़ल गुनगुनाती है

तुमसे मिलने का, बिछड़ने का सबब,
दुनिया पूछे तो मुस्कुराती है

वो जो आएँ, तो मेरा चाँद आए,
ईद आती है, चली जाती है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें