अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.28.2016


महाभारत के शान्ति पर्व में "राजधर्म" का स्वरूप

आज जिसे हम "राजनीति" कहते हैं, उसी की प्राचीन शब्दों में "राजधर्म" संज्ञा थी। महाभारत राजधर्म के तथ्यों से भरा पड़ा है। लेकिन शान्तिपर्व में "राजधर्म" का विशेष रूप से निरूपण हुआ है। इसके अतिरिक्त प्रायः पूरे महाभारत में प्रसङ्गानुकूल राजधर्म की बातें कही गयी हैं। लेकिन शान्ति पर्व में विवेचना करने से पता चलता है कि इसमें राजा का स्वरूप और राजा की आवश्यकता, राजाविहीन समाज की दशा, राजा द्वारा राज्य की व्यवस्था और प्रजापालन आदि राजधर्म के मुख्य विवेचना के विषय हैं। महाभारत में राजा और राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में संकेत मिलता है। युधिष्ठिर के प्रश्न के उत्तर में भीष्म ने बताया कि सतयुग में राजा और राज्य नहीं हुआ करते थे। स्वतः ही धर्म के भय से प्रजा अपने कर्त्तव्यों का निर्वाह करती थी। इस प्रकार उस समय धर्मानुशासन था। समय बीतने पर लोगों में लोभ और मोह व्याप्त हो गया। समय को अनियन्त्रित देखकर देवताओं के आग्रह पर ब्रह्मा ने अपनी बुद्धि से एक लाख अध्यायों का एक ऐसा नीति शास्त्र रचा जिसमें धर्म अर्थ और काम का विस्तारपूर्वक वर्णन है। जिनमें इन वर्गों का वर्णन है वह प्रकरण त्रिवर्ग नाम से विख्यात है-

ततोऽध्यायसहस्राणां शतं चक्रे स्वबुद्धिजम्।
यत्रधर्मस्तथैवार्थः कामष्चैवाभिवर्णितः॥
त्रिवर्ग इति विख्यातो गण एव स्वयम्भुवा।

शा0प0 59/29

"राजते इति राजा" जो लोगों के बीच दीप्तिमान होता है सुशोभित होता है, वह राजा है। प्राचीन मान्यता के अनुसार राजा में ईश्वर का अंश होता है। विष्णु, इन्द्र, वरुण आदि देवताओं की उत्पत्ति जिन उपादानों से हुई उन्हीं उपादानों से राजा की भी उत्पत्ति होती है। इसीलिए राजा सबसे तेजस्वी और प्रखर बुद्धि वाला होता है। महाभारत (भीष्मपर्व 34/27) में श्रीकृष्ण ने स्वयं कहा है कि-"नराणां च नराधिपः" अर्थात् मनुष्य जाति में राजा तो मैं ही हूँ। अभिप्राय यह हुआ कि राजा मनुष्य जाति में से ही होता है बस उस पर ईश्वर की छाप होती है।

समाज विभिन्न प्रकार की विपत्तियों और बाधाओं से व्याप्त था। अतः समाज को संचालित करने के लिए एक मज़बूत व्यवस्था की आवश्यकता थी जिससे अराजक जनता पर नियन्त्रण रखा जा सके। जैसा कि उल्लेख मिलता है कि राजा और नीतिशास्त्र से पहले सतयुग का काल था और धर्मानुशासन से ही सामाजिक व्यवस्थाएँ स्वतः चल रही थी। लेकिन धर्मानुशासन के कमज़ोर पड़ने पर राजधर्म और राजा का उदय हुआ। जैसा कि उल्लेख मिलता है-

एवं ये भूतमिच्छेयुः पृथिव्यां मानवाः क्वचित्।
कुर्यू राजानमेवाग्र प्रजानुग्रहकारणात्॥

शा0प0 67/33

प्राचीन काल में राजा का चयन प्रजा मिलकर करती थी। समय व्यतीत होने पर राजपद वंशपरम्परागत हो गया और राजा के उत्तराधिकारी को ही राज्य प्राप्त होने लगा। इसी प्रकार महाभारत में भी देखने को मिलता है कि युधिष्ठिर प्रजा के अत्यधिक चाहने पर भी राजा नहीं बन सके और दुर्योधन उत्तराधिकारी के रूप में राजा बन गया। युधिष्ठिर सदाचारी और योग्य होने पर भी राजपद से वंचित् रह गये और दुर्योधन दुराचारी और अयोग्य राजा बन गया। लेकिन दुर्योधन अपना राजपद सुरक्षित रखने के लिए नीति से राज्य को जीतने का प्रयत्न करने लगा। लेकिन युधिष्ठिर ने न्याय और धर्मपूर्वक युद्ध करके अपना अधिकार प्राप्त कर लिया।

शान्तिपर्व में राजधर्म का महत्त्व उसकी श्रेष्ठता और राजा के आदर्श चरित्र पर पर्याप्त प्रकाश डाला गया है। सभी वर्णाश्रम और धर्मों का पालन करने और पुरुषार्थ चतुष्टय का हेतु होने से राजधर्म सभी धर्मों का मूल कहा गया है। राजधर्म की उपेक्षा कर कोई भी धर्म उन्नति के शिखर को प्राप्त नहीं कर सकता। राजधर्म बाहुबल के अधीन होता है। वह क्षत्रियों के लिए जगत् का श्रेष्ठतम धर्म है, उसका सेवन करने वाले क्षत्रिय मानवमात्र की रक्षा करते हैं। अतः तीनों धर्मों के उपधर्मों सहित जो अन्यान्य समस्त धर्म हैं। वे राजधर्म से ही सुरक्षित रह सकते हैं, यह मैंने वेदशास्त्र से सुना है।1 जैसे हाथी के पदचिह्न में सभी प्राणियों के पदचिह्न विलीन हो जाते हैं उसी प्रकार सब धर्मों को सभी अवस्थाओं में राजधर्म के भीतर ही समाविष्ठ हुआ समझो।2 सभी धर्मों में राजधर्म प्रधान है, क्योंकि उसके द्वारा सभी वर्णों का पालन होता है। राजन्! सभी धर्मों में सभी प्रकार के त्याग का समावेश है और ऋषिगण त्याग को सर्वश्रेष्ठ एवं प्राचीन धर्म बताते हैं।3

समाज में सुव्यवस्था की दृष्टि से क्षत्रियधर्म अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। उसका यथोचित पालन करने से क्षत्रिय इहलोक में अक्षय यश और परलोक में अनन्त सुख प्राप्त करता है। समुचित प्रजापालन से ही राजा मोक्ष का अधिकारी हो जाता है।4 वस्तुतः राजा वही है जिसके राज्य में प्रजा सुखपूर्वक जीवन-यापन करें। प्रजा को सुखी और सन्तुष्ट रखने वाले राजा का यश चिरकाल तक चलने वाला और स्थायी होता है।5 बृहस्पति ने राजाओं के लिए उद्योग के महत्त्व का प्रतिपादन किया है। उद्योग ही राजधर्म का मूल है। देवराज इन्द्र ने उद्योग से ही अमृत प्राप्त किया उद्योग से ही असुरों का संहार किया और उद्योग से ही देवलोक और इलहोक में श्रेष्ठता प्राप्त की।6 राजा के लिए जो गोपनीय रहस्य की बात हो, शत्रुओं पर विजय पाने के लिए वह जो लोगों का संग्रह करता हो, विजय के ही उद्देश्य से उसके हृदय में जो कार्य छिपा हो अथवा जो न करने योग्य असत् कार्य हो, वह सब कुछ उसे सरल स्वभाव से ही छिपाये रखना चाहिए। वह लोगों में अपनी प्रतिष्ठा बनाए रखने के लिए सदा धार्मिक कर्मों का अनुष्ठान करे जिसका उल्लेख इस प्रकार मिलता है-

राज्ञो रहस्यं यद् वाक्यं जयार्थं लोकसंग्रहः।
हदि यच्चास्य जिह्मं स्यात् कारणेन च यद् भवेत्॥
यच्चास्य कार्यं वृजिनमार्जवेनैव धारयेत्।
दम्भनार्थं च लोकस्य धर्मिष्ठामाचरेत् क्रियाम्॥

शा0पा0, 58/19-20

प्रजा की रक्षा करते हुए, राजा के प्राण चले जाएँ तो भी वह उसके लिए महान् धर्म है।7 प्रजा में भेदभाव की दृष्टि नहीं रखनी चाहिए। राजा को दुष्ट-दमन और शिष्ट-पालन में अनुरक्त होना चाहिए। राजा को चाहिए कि वह अपराध के अनुसार ही अपराधी को कठोर दण्ड दे। किसी भी दुष्ट को क्षमा न करे। यदि प्रजा के धर्म का भागी राजा होता है तो वह प्रजा के पाप का भी भागी होता है। अतः सर्वात्मना प्रयत्न यह करना चाहिए कि उसके राज्य में पाप का अङ्कुर भी दिखाई न दे।8 राजा ही सत्ययुग की सृष्टि करने वाला होता है, और राजा ही त्रेता, द्वापर तथा चौथे युग कलि की भी सृष्टि का कारण है।9 इसलिए धर्मपालन में राजा को सदैव सतर्क दृष्टि वाला होना चाहिए, क्योंकि राजा ही समय का शुभा-शुभ हेतु होता है। राजा के द्वारा सुरक्षित हुई प्रजाएँ जो-जो धर्म करेगी, उसका चतुर्थ भाग आपको मिलता रहेगा।10 राजा को यदि राजलक्ष्मी का उपभोग चिरकाल तक करना है तो ऐसा आचरण करना चाहिए जिससे दर्प और अधर्म का सेवन न हो। मतवाले प्रमादी बालकों से दूर रहो। यदि वे निकट आकर सेवा करना चाहें तो भी उनकी उस सेवा से भी सर्वथा वचना चाहिए। निग्रहीत अमात्य, अपरिचित स्त्री, ऊँचे-नीचे दुर्गम पर्वतों से तथा हाथी, घोड़े और सर्पों से राजा को सुरक्षित रहना चाहिए रात्रि विचरण, कृपणता, अभिमान, दम्भ और क्रोध का भी सर्वथा परित्याग कर दें।11

राजा के विधायीराज्यकार्य में कितने सदस्य होने चाहिए इस विषय में महाभारत में कोई एक निश्चित मत नहीं व्यक्त किया गया है। भिन्न-भिन्न स्थलों पर मन्त्रियों की संख्या अलग-अलग बताई गई है। मन्त्रियों की न्यूनतम संख्या तीन होनी चाहिए।12 एक स्थल पर कहा गया है कि राजा पाँच बुद्धिमान मन्त्रियों के परामर्श से कार्य करें।13

प्राचीन राजधर्म और राज्य-व्यवस्था की समीक्षा करने पर एक तथ्य निष्कर्षतः प्राप्त होता है कि तेजस्वी तपः पूत, ब्राह्मण की ब्रह्म शक्ति तथा प्रजापालन क्षत्रिय का बाहुबल-इन दोनों की अभेद मैत्री होने पर ही राज्य का कल्याण और अभ्युन्नति हो सकती है, अन्यथा नहीं।14

दूतविद्या के विषय में वर्णन मिलता है कि राजाके दूत को कुलीन होना चाहिए, शीलवान, वाचाल, चतुर, प्रिय वचन बोलने वाला, संदेश को ज्यों का त्यों कह देने वाला तथा स्मरण शक्ति से सम्पन्न इन सात गुणों से युक्त होना चाहिए। द्वारपाल में भी ये ही गुण होने चाहिए। राजा के शिरोरक्षक में भी इन्हीं गुणों का समावेश होना चाहिए। मन्त्री के विषय में वर्णन मिलता है कि संधि विग्रह के अवसर को जानने वाला धर्मशास्त्र का ज्ञाता, बुद्धिमान, धीर, लज्जावान, रहस्य को गुप्त रखने वाला कुलीन साहसी तथा शुद्ध हृदय वाला मन्त्री ही उत्तम माना जाता है। सेनापति भी इन्हीं गुणों से सम्पन्न होना चाहिए।15

इस प्रकार उपर्युक्त विवेचन से पता चलता है कि महाभारत के शान्तिपर्व में "राजधर्म अथवा राजनीति के विषय में विस्तृत रूप से वर्णन मिलता है जिनके मुख्य बिन्दुओं पर यहाँ प्रकाश डालने का प्रयत्न किया गया है।

संदर्भ:

1. बाह्वायतं क्षत्रियैर्मानवानां लेाकश्रेष्ठं धर्ममासेवमानैः।
सर्वे धर्माः सोपधर्मास्त्रयाणां राज्ञो धर्मादिति वेदाच्छृणोमि॥ शा0प0, 63/24
2. यथा राजन् हस्तिपदे पदानि संलीयन्ते सर्वसत्त्वोद्भवानि।
एवं धर्मान् राजधर्मेषु सर्वान् सर्वावस्थान् सम्प्रलीनान् निबोध॥ शा0प0, 63/25
3. सर्वेधर्म राजधर्मप्रधानाः सर्वेवर्णाः पाल्यमाना भवन्ति।
सर्वत्यागो राजधर्मेषु राजंस्त्यागं चाहुरग्रयं पुराणम्॥ शा0प0, 63/27
4. द्रष्टव्य शान्तिपूर्व अध्याय-64
5. द्रष्टव्य शन्तिपूर्व अध्याय-57
6. उत्थानेनामृतं लब्धमुत्थानेनासुरा हताः।
उत्थानेन महेन्द्रेण श्रेष्ठयं प्राप्तं दिवीह च॥ शा0प0, 58/14
7. यद्यप्यस्य विपत्तिः स्यात् रक्षमाणस्य वै प्रजाः।
सोऽप्यस्य विपुलो धर्म एवंवृत्ता हि भूमिपाः॥ शा0प0, 58/23
8. उपाध्याय, आचार्य बलदेव, संस्कृत-वाङ्मय का बृहद इतिहास, उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, 2000 ई0, पृ0 644-645
9. शान्तिपर्व अध्याय 69/79, 98
10. यं च धर्मं चरिष्यन्ति प्रजा राज्ञा सुरक्षिताः।
चतुर्थं तस्य धर्म त्वत्संस्थं वै भविष्यति॥ श0पा0 67/27
11. शान्ति पर्व अध्याय, 90/29-32
12. तस्मात् सर्वगुणैरेतैरूपपन्नाः सुपूजिताः।
मन्त्रिणः प्रकृतिज्ञाः स्युस्त्र्यवरा महदीप्सवः॥ शा0प0, 83/47
13. परीक्ष्य च गुणान् नित्यं प्रौढ़भावान् धुरन्धरान्।
पचोपधाव्यतीताश्च कुर्याद् राजार्थकारिणः॥ शा0प0, 83/22
14. शान्तिपूर्व अध्याय, 74/21
15. शान्तिपर्व अध्याय, 85/28-31

मकेश्वर तिवारी (वरिष्ठ अनुसन्धाता)
व्याकरण विभाग, स. वि. ध. वि. संकाय
का. हि. वि. वि. वाराणसी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें