अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.30.2017


मजमा

मजमा सजा है
मदारी ख़फ़ा है
बंदरिया के खेल का
अपना ही मजा है
लोग खड़े हैं
जादु बड़े हैं
हवा में से आयेगा रुपैया
साँप नाचेगा बीन पर थैया थैया

खेल सजेगा
नींबू कटेगा
ख़ून बहेगा
एक लड़का गिरेगा
फिर ख़ून बहेगा
हाथ खोल दो
नहीं तो लड़का मरेगा
मदारी कहेगा
मंच सजेगा
बच्चा लोग ताली बजायेंगें
बड़े लोग बटुआ संभालेंगे
मदारी नोट के नम्बर बतायेगा
सब ख़ुश हो जायेंगे

पुलिस वाला आयेगा
डंडा बजायेगा
मदारी पचास का नोट थमायेगा
नया खेल दिखायेगा
छोटी सी लड़की आयेगी
दो बाँसों में रस्सी कसेगी
पाँव में रस्सी फंसेगी
रस्सी पर टंगेगी।
भीड़ होंठों पर हाथ रखेगी
अब गिरी के तब गिरी
कुछ नहीं होता
लड़की नीचे
सब बजाओ ताली
बच्चों की जेब ख़ाली
बड़ों ने फिर पर्स निकाला
नया नोट जुगाड़ा
खुले नहीं का बहाना लगाया
सिक्का निकाला
हवा में उछाला
मदारी ने लपका
खेल ख़त्म
पाँच साल पूरे हुये

सारे जुटना अगली गली
नया मदारी आयेगा
पुराने का सगा नहीं होगा
हवा में पैसा बनायेगा
लपक लेना सब
हवा का पैसा हवा में रहेगा
यूँ ही चलेगा
वह नया खेल दिखायेगा
पापी पेट का सवाल है भाई


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें