अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.23.2019


 मैं तो अभी बच्चा हूँ

मैं यूँ ही अक्खड़ अटखेलियाँ करता रहता हूँ,
तेरी हर सलाह अच्छी होती है
पर मैं उन्हें दुत्कार देता हूँ
जब होती है साँझ तो तेरी ही
गोद में आँख मूँद लेता हूँ
क्योंकि मैं तो अभी बच्चा हूँ I

हर रोज़ की तरह तू एक ही राग अलापती है
चाहे मेरी ग़लती हो या न हो
फिर भी तू डाँटती रहती है
खुली आँखों में ऐसा क्या है
नींद आने पर ही क्यों दुलारती हो
आखिर माँ अभी तो मैं बच्चा हूँ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें