अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.03.2014


एक दिल सीने में

एक दिल सीने में खुशियों से पला रक्खे हुए हैं
हम जतन से प्यार का हर मामला रक्खे हुए हैं

भव्य, आलीशान बंगलों से नज़र थोड़ी हटा
देखो इधर भी हम सलोना घोंसला रक्खे हुए हैं

कौन है जो रोक सकता इस जवाँ दिल को अभी
यह आग भी पी जाएगा यह हौंसला रक्खे हुए हैं

आज मेरे चाहने वाले हज़ारों हैं ज़नाब
हम सफ़र में साथ अपने काफ़िला रक्खे हुए हैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें