अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.18.2017


यह मज़हबी युद्ध

रक्तरंजित यह धरा और बहती अश्रुधार
फैलीं भुजाएँ आतंकी करती नरसंहार
कितना विषैला कितना अशुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

नौजवां पथभ्रष्ट करते अनिष्ट
बाँध बारूद छाती हुए आत्मघाती
क्यूँ अमन के विरुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

धर्म के ठेकेदार कर रहे व्यापार
बनकर बिचौली खेलें खूनी होली
समझें अनिरुद्ध.... यह मज़हबी युद्ध

न देश न समाज न माँ की चीत्कार
धर्म और ईमान चन्द नोटों के गुलाम
प्रभु रुष्ट अल्लाह भी क्रुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

न भगवा न हरा न ही श्वेत यह ख़रा
रंग जो विनाश का सिर्फ़ सुर्ख लाल सा
जन निराश शांत जैसे बुद्ध....यह मज़हबी युद्ध


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें