अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


उनसे यूँ जुदा होकर फिर क़रीब आने में

उनसे यूँ जुदा होकर फिर क़रीब आने में
देर लगती हैं आखिर फ़ासले मिटाने में

कितनी देर लगती है आसमां झुकाने में
लोग-बाग माहिर है उँगलियाँ उठाने में

किस तरह भला उसने ये जहां बना डाला
दम निकल गया मेरा अपना घर बनाने में

आज़मा के तो देखूँ एक बार उसको भी
जो यक़ीन रखता हो सबको आज़माने में

तेरे सामने सारा रोम जल गया नीरो
तू लगा रहा केवल बाँसुरी बजाने में

मुश्क़िलों से घबरा कर राह में न रुक जाना
ये तो काम आती हैं होंसला बढ़ाने में

दिन सुहाने बचपन के रूठ जायेंगें इक दिन
इल्म ये कहाँ था पुरु मुझको उस ज़माने में


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें