अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


क्यूँ ऐसा अक्सर लगता है

क्यूँ ऐसा अक्सर लगता है
घर में भी इक घर लगता है

सब कुछ पाकर भी क्यूँ मुझको
कुछ खोने का डर लगता है

प्यास गहनतम यदि हो जाए
क़तरा भी सागर लगता है

दुनिया मेरी, मैं दुनिया का
मुझको ये क्यूँकर लगता है

क़ैद हुए हैं अपने घर में
अब अपनों से डर लगता है

सच तो है पुरु ग़ुरबत में
चिथड़ा भी चादर लगता है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें