अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


अब साथ भी उनका रहे या न रहे

 अब साथ भी उनका रहे या न रहे
चलना है मुझे वो चले या न चले

पूछो अभी उससे बहारों का पता
यूँ रू-ब-रू फिर वो रहे या न रहे

तुम आज जी भर के सीसकने दो मुझे
कल क्या पता ये ग़म रहे या न रहे

हम तो कहेंगे जो भी कहना हैं हम
उसकी है मरज़ी वो सुने या न सुने

मुझे मेरी बस राह आ जाए नज़र
ये रात चाहे फिर ढले या न ढले

है ज़िंदगी का अर्थ ही चलना 'पुरु'
राह मिल गई मंज़िल मिले या न मिले


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें