अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


आपके हर ग़म को सीने से लगाना चाहता हूँ

आपके हर गम को सीने से लगाना चाहता हूँ
खुश्क हैं आँखें मेरी आँसू बहाना चाहता हूँ

क्या करूँ पर विष वमन करती हुई इन चिमनियों का
फूल तो हर चंद मैं हर सू खिलाना चाहता हूँ

छल रहे हैं जो निरन्तर चहरे दर चहरे चढ़ाकर
उनके चहरों से सभी चहरे हटाना चाहता हूँ

आदमी इंसान बन जाएँ यही कोशिश है मेरी
आदमी को देवता मैं कब बनाना चाहता हूँ

युग-युगों से ज़ुल्म सहकर दिल जो ठण्डे पड़ चुके हैं
उनमें ’पुर’ आतिश बग़ावत की तगाना चाहता हूँ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें