अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


आज जिएँ कल मरना है

आज जिएँ कल मरना है
और हमें क्या करना है

भूली-बिसरी गलियों से
मुझको आज गुज़रना है

ख़ौफ़ मिटेगा दिल से कब
और कहाँ तक डरना है

आग बिछी है राहों में
देख-सम्हल पग धरना है

साथ रहो तुम या न रहो
मुझको पार उतरना है

थम न सके आँसू इनमें
आँखें क्या है, झरना है

एक खुशी की ख़ातिर ही
ग़म बाहों में भरना है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें