अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.19.2012


जिसकी सुखी है हर समय संतान दोस्तो

जिसकी सुखी है हर समय संतान दोस्तो
वो शख्स है जहान में धनवान दोस्तो

इस बात में फकीरों की मेरा भी है यक़ीन
बसता है ज़र्रे - ज़र्रे में भगवान दोस्तो

हक़दार हों भले ही कई उसके वास्ते
मिलता है कब हरेक को सम्मान दोस्तो

जीवन में भी तो होती हलचल अजीब सी
जीवन में भी तो आता है तूफान दोस्तो

संसार दानवीरों से वंचित नहीं हुआ
करते हैं अब भी लोग कई दान दोस्तो

रहते हैं साधुओं से फ़क़ीरों से उम्र भर
मिल जाते हैं कुछ ऐसे भी धनवान दोस्तो

दुनिया की कोई चीज़ भी उससे नहीं छिपी
जिस शख़्स को है थोड़ी भी पहचान दोस्तो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें