अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.13.2018


आज फिर साथ दे

आज फिर साथ दे
हाथ में हाथ दे॥१॥

तू हमारे लिये
माथ को माथ दे॥२॥

झूम कर आ ज़रा
कंठ को गाथ दे॥३॥

छोड़ दुनियॉ॓ सनम
देखने नाथ दे॥४॥

डूब जा प्रेम में
प्रीत को पाथ दे॥५॥

खो गया"रंक"अब
अब विश्वनाथ दे॥६॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें