अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.28.2007
 
कौन करता याद
नीरज गोस्वामी



जिस शजर ने डालियों पे देखिये फल भर दिये
उसको चुनचुन कर के लोगों ने बहुत पत्थर दिये

कौन करता याद है सच बात बिल्कुल दोस्तो
वो दीवाने ही हैं जो ये जान कर भी सर दिये

फूल देता है वो सबको क्या गज़ब इन्सान है
भूल जाता किसने उसको बदले में नश्तर दिये

प्यार गर जागा नहीं दिल में तेरे किसकी ख़ता
हर बशर को तो ख़ुदा ने सैंकड़ों अवसर दिये

काटनी पंछी को थी पिंजरे में गर ये ज़िंदगी
क्यूँ मगर सैयाद ने फिर छोड़ ये कुछ पर दिये

रब नहीं देता है कुछ ख़ैरात में ये मान लो
नींद लेता उससे जिसको मखमली बिस्तर दिये

ज़िन्दगी बख़्शी ख़ुदा ने इस तरह नीरज हमें
यूँ लगे जैसे की उसने खीर में कंकर दिये

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें