अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.27.2008
 
झूट जब बोला तो ताली हो गई
नीरज गोस्वामी

बात सचमुच में निराली हो गई
झूट जब बोला तो ताली हो गई

फेर ली जाती झुका कर थी कभी
उस शरम से आँख खाली हो गई

ये असर हम पे हुआ इस दौर का
भावना दिल की मवाली हो गई

मिल गई उनको इजाज़त ज़ुल्म की
अपनी तो फ़रियाद गाली हो गई

इक नदी बहती कभी थी जो यहाँ
बस गया इंसाँ तो नाली हो गई

डाल दीं भूखे को जिसमें रोटियाँ
वो समझ पूजा की थाली हो गई

हाथ में क़ातिल के नीरज फूल है
बात अब घबराने वाली हो गई

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें