अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.28.2007
 
दिल का मेरे
नीरज गोस्वामी

दिल का मेरे ये भी इक फ़ितूर है
मानना हरगिज़ नहीं तू दूर है

मींच कर के आँख फिर से देखिये
हो गया गर ख़्वाब चकनाचूर है

बात में उसकी सदा रहता है सच
जो नहीं मालिक महज मजदूर है

आलमे तन्हाइ का दोज़ख़ है क्या
पूछ उससे जो बहुत मशहूर है

धूल उसने झौंक दी है आखँ में
जिसको समझे थे के इनका नूर है

ग़म खुशी में फ़र्क ही करते नहीं
क्या अजब ये अश्क का दस्तूर है

साथ तेरे गर वो चल पाया नहीं
सोचना नीरज बहुत मजबूर है

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें