अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.11.2017


स्वर की महिमा

अ-अड़ियल कभी बनो नहीं।
आ-आज्ञा सदा बड़ों की मानो॥

इ-इधर-उधर न घूमो फिरो।
ई-ईश्वर सर्वज्ञ है जानो॥

उ-उज्ज्वल भविष्य बने तब ही।
ऊ-ऊब न श्रम में आवे॥

ए-एड़ी चोटी एक करोगे।
ऐ-ऐसा महान बनावे॥

ओ-ओज बनेगा चरित्र से ही।
औ-और मान बढ़ेगा जग में॥

अं-अंतःकरण शुद्ध रखोगे।
अः-अःहा! कहोगे पग-पग में॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें