अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.19.2018



जनवरी लेकर के आता
नया साल मस्ताना।
फरवरी में ऋतु बसंत आ
मौसम करे सुहाना॥

मार्च माह में गप्पें छोड़ो
पढ़ने में जुट जाओ।
अप्रेल में शुरू परीक्षा
अव्वल नंबर पाओ॥

मई आयी है गरमी भारी
हाल हुआ बेहाल।
जून माह तक रहो घूमते
शिमला,कुल्लू,नैनीताल॥

जुलाई ने स्कूल खोले फिर
नई कक्षा में आए।
अगस्त में काले - काले
नभ में बादल छाए॥

सितंबर में ताल भरे
सब जगह बिछी हरियाली।
अक्टूबर में नवरात्रे आए
बोलो जय अम्ब,जय काली॥

नवंबर का जाड़ा जैसे
चुभे पैर में काँटा।
दिसंबर को विदा करो
कह अच्छा भाई! टा...टा॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें