अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.25.2017


हाइकु - 2

स्वप्न टूटे तो
काँटे चुभने लगे
झरी पाँखुरी।
*
तेरे बग़ैर
लम्हा पिन चुभाये
चाँद हंसिया।
*
कागा बोला तो
तन्हाई फड़कती
शगुन शुभ।
*
तेरे आने से
महक उठा दिल
मधुबन-सा।
*
ग्रीष्म मौसम
शापित पतझड़
दुःखी पवन।
*
सूरज करे
धरा अभिनंदन
प्रकाश पुष्प।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें