अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.25.2017


हाइकु - 1

बेसुध नदी
मछली-सी तड़पे
जल माँगती।
*
छाया ने लिखी
जल पर कविता
धूप पढ़ती।
*
कुआँ भूत-सा
नदी पगडंडी-सी
ये क्या हो गया?
*
क़लम लिखे
जल पर कविता
अक्षर रोये।
*
नयन नीर
सागर से जा मिले
तुम न मिले।
*


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें