अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.18.2017


गाँधी जी

आज़ादी का नाम गाँधी जी।
बलिदान का दाम गाँधी जी॥

मोहनदास करमचन्द गाँधी।
बापू पूरा नाम गाँधी जी॥

राष्ट्रपिता वह हम सब के हैं।
बारम्बार प्रणाम गाँधी जी॥

अँग्रेज़ों का जीना किया।
पल-पल हराम गाँधी जी॥

सत्य, अहिंसा से हासिल की।
आज़ादी का मुक़ाम गाँधी जी॥

जब तक सूरज ,चाँद रहेगा।
अमर आपका नाम गाँधी जी॥

लाठी ले एक धोती पहने।
बने श्रद्धा के धाम गाँधी जी॥

अंतिम साँसे पल आख़िरी।
कह गये ‘हे राम!’ गाँधी जी॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें