अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.27.2017


मरता कुआँ

स्रोत था जीवन का मैं
अमृत था मेरा जल
तृप्त होते थे मुझसे तुम रोज़
सिंचित करता था हर पल
करते थे पूजा सुबह शाम मेरी
था वर्चस्व तुम्हारे जीवन पर
सोते जागते थे तुम मेरे साथ
सुनता था तुम्हारे दुःख सुख की बात
जब से हुई है नल और कल से दोस्ती तुम्हारी
लुप्त हो रही है मेरी पहचान
है मेरे भी रिश्तेदार शहर के सब मुहल्लों में
अब वो भी हो गये विलुप्त
अब है मेरी बारी मैं ले रहा हूँ अन्तिम साँसें
रो रही है आत्मा अब मेरी
कर रहे हो दफ़न मुझे
तड़पा तड़पा के हर रोज़
मनाओगे ख़ुशी बना के मेरी क़ब्र
कोई नहीं चाहता जीर्णोद्धार मेरा
रोओगे तुम एक दिन
जब टूट जाएगी दोस्ती नल और कल की
देर हो जायेगी तब तक
खोदोगे मेरा क़ब्र मिलेगा अवशेष
नहीं मिलेगा जीवन का वह स्रोत
चाहते हो ख़ुशहाली कर दो मेरा जीर्णोद्धार
करूँगा सिंचित सबको
यही है अंतिम
इच्छा हमारी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें