अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.04.2018


हे कृष्ण जब

हे कृष्ण,
जब गीता में तुम कहते हो
तो अर्जुन सुनता है,
जब अर्जुन कहता है तो
तुम सुनते हो।
जब धृतराष्ट्र बोलता है
तो संजय सुनता है,
जब संजय कहता है
तो अंधा राजा सुनता है।
उधर, अर्जुन का मोह भंग हो जाता है,
इधर, राजा मोह में अंधा ही रह जाता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें