अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.16.2009
 

दर्द के क़िस्सों की ख़ातिर वक़्त किसके पास है
मधुप मोहता


दर्द के क़िस्सों की ख़ातिर वक़्त किसके पास है
ये मेरी आवाज़ की आवारग़ी का शहर है

फिर कोई लाचार सपना ढूँढता है घर यहाँ
ये ख़ुदा की बेबसी, बेचारग़ी का शहर है

कुछ ना पूछो कब, कहाँ, क्यों, कौन, कैसे
ये शहर ख़ामोशियों की बानगी का शहर है

रोशनी मिलती है किश्तों में, किराये पर हवा
ये झिलमिलाती जगमगाती, तीरगी का शहर है

जश्न है हर क़त्ल, बिकती शराफ़त, बचपन, हया
ये मुस्कुराती, मौत जैसी ज़िंन्दगी का शहर है

अब फ़ासलों से मिलनसारी का सलीक़ा सीखिए
ये हसीन जल्वों की नंगी सादग़ी का शहर है

चप्पलें फटकारते ग़ालिब यहाँ घूमा किये
ये मैक़दों पर तरस खाती तिश्नगी का शहर है

दिल लगा लो बस, यहाँ पर बस ना जाना
दिल्ली नहीं है दोस्त, ये दिल्लगी का शहर है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें