अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.17.2017


प्रतिरोध

चिड़िया
पहचानती है अपना दुश्मन
चाहे वह
बिल्ली हो या काला भुजंग

जिस चोंच से
बच्चों को चुगाती है चुग्गा
या फिर
किसी लुभावने मौसम में
गुदगुदाती है चिड़े की पीठ
उसी चोंच को
बनाना जानती है हथियार

जानते होते हुए भी
कि
घोंसले में दुबके बच्चे
पंख उगते ही
उड़ जायेंगे फुर्र से
अनजानी दिशाओं में,
आता देख
भयंकर विषधर
टूट पड़ती है उस पर,
जान जोख़िम में डाल
दर्ज कराती है प्रतिरोध अपना
अंतिम दम तक
भविष्य में नहीं
वर्तमान में जीती है चिड़िया
इसीलिए हारकर भी
हर बार जीतती है चिड़िया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें