अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.20.2017


तुम बिन अस्तित्व में

मैं वहाँ तक आगे
जाना चाहती हूँ
जहाँ से तुम
मुझसे पीछे ना छूटो!

मैं झट से तुम्हारा
हाथ थाम सकूँ
आवश्यकता पड़ने पे!

मैं कुछ तो हूँ
बस तुम ये समझो
तुम्हारे जाने के बाद भी
अस्तित्वहीन नहीं हुई
मैं अपने अस्तत्वि में हूँ
अपने स्त्रोयोचित गुणों को सँभाले!

स्वाभिमान अब भी शेष है मेरा
इसलिए तुम्हारे पीछे-पीछे भागने के बजाय
मैंने ख़ुद की स्वंत्रत पहचान बनायी
ना तुम्हें हराना चाहती
ना तुम्हें जीतना चाहती
बस बराबरी चाहती हूँ
परस्पर संबंधों की!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें