अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.20.2017


ओर्चिड हूँ मैं

अमीर दुल्हों के सेहरे
वैवाहिक जोड़ के
गलमाला बन
शान से शादी के मंडपों में
सजता हूँ
ओर्चिड नाम है मेरा
महँगा फूल हूँ मैं!

मुझे ख़रीदना
हर किसी के बस की बात नहीं
आकर्षक धन है मेरा
गुलाब की ख़ुशबू नहीं मुझ में
पर गुलाब से महँगा बिकता हूँ
मुझे ख़रीदने वाला
दस बार अपनी जेब टटोलता है
असमंजस में सदा रहता है
ख़रीदे या ना ख़रीदे!

एक रात के नशे जैसा हूँ
सुबह होश में कर देता हूँ
कब तक लोंगों की जेबें
ख़ाली कर देता हूँ
सारे फूल जलते हैं मुझसे
बिना बहुत अच्छी ख़ुशबू के
कैसे महँगा बिकता हूँ!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें