अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.20.2017


मेरे गुलमोहर

मेरे प्यारे गुलमोहर
कहाँ चले गये हो
मुझ में सावन भर कर
कहीं ओर भादों बनके बरखा करने को
मुझे प्यासा छोड़ गये!

वो जो मुझे तड़पाता था
इंतज़ार करवाता था
मुझे तरसाता था
अपनी बाँहों में भर कर
प्यार का फूल बरसात था!

वो फूल नहीं था
जो आँधी आने से
डाली से टूट मुरझा जायें
वो तो मेरे मृत शरीर में जान फूँक गया
प्यार की लौ जला के
अंदर ही अंदर जलने को!

मेरे प्यारे गुलामोहर
मैं तुम्हें बहुत प्यार करती हूँ
इसलिए गुलमोहर का एक पेड़
आँगन में लगा रखा है
जब भी मस्तानी हवा चलती
फूल उड़कर मुझ पर गिरते हैं
उसकी मिठ्ठी ख़ुशबू
तुम्हारे होने का अहसास कराती है
जब मेरे साँसो में जाती है!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें