अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.30.2018


रूपस्वामिनी

श्वास-श्वास पुष्प की सुगंध से सुवासित है
मन मन्दिर तन तेज है हवन का,
नैन द्वय दीपक से पावन निहार रहे
मेघ कुन्तलों को पुण्य स्पर्श है पवन का।
पुष्पक विमान की गति से मन उड़ता है
मंजिल क्षितिज अरु पथ है गगन का,
रति सा आकर्षण चंद्र की कलाएँ सब
मन आतुर अधरों के आचमन का॥

कटि कमनीय करे कामिनी कलोल तेरी
श्वेत दन्त मोती से शृंगार है वदन का,
सिद्धियों की सिद्धी गई योगियों का योग भंग
काम तेरा बस एक ध्यान विचलन का।
मन ये सहज चाहे तुझको प्रसन्न रखूँ
मंत्र हो तो पढ़ लूँ मैं सौंदर्य स्तवन का,
मन में न स्थान चाहूँ तन की न आस करूँ
दास बन जाऊँ रूपस्वामिनी चरण का॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें