अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.10.2016


होली हटक्कली

सज धज वह होली में आई।
मन की चटकी एक चटक्कली॥
मैंने सोचा की अब बीबी।
फटका देगी एक फटक्कली॥

चलें मायके इस होली पर।
बोली मटकी ज़रा मटक्कली॥
मैंने उसको मना किया तो।
गले लटक गई मेरी लटक्कली॥

मैं बोला खर्चे से डर तू।
सुन मेरी तू अरे मटक्कली॥
होटल में चलते हैं खाने।
मेरी लटकन जान लटक्कली॥

ग़ुस्सा होकर रूठ गई वह।
पैर पटकली रही पटक्कली॥
जाने कब वह बाहर निकली।
और सटक गई कहीं सटक्कली॥

मेरे मन में चिंता जागी।
कहाँ अटक गई हाय अटक्कली॥
थाने पहुँचा रपट लिखाई।
भटक गई हैं कहीं भटक्कली॥

दस हज़ार दो दिन में फुक गये।
झटका दे गई मुझे झटक्कली॥
पर दो दिन में वापिस आ गई।
फटकारा मेरी फटक्कली॥

वह रोकर बोली तुमको मैं।
रही खटकती सदा खटक्कली॥
मैं तो रही मायके दो दिन।
चाहे तो कहं दो सटक्कली॥

मैंने सुन कर माफ़ी माँगी।
भूल गटक मेरी गटक्कली॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें