अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.20.2018


शतंरज

सदियों से बिछी है चौपड़
वक़्त खेलता बाज़ियाँ
पिंजरे में बंद शेर की तरह
मानव करता कलाबाज़ियाँ
ज़ेहन मे चलते रहते युद्ध
फ़तह मिलेगी या ज़िल्लत
विलासी विषयासक्त सा जन
जीत की हर बार ले प्रण
भूल जाता है वो अक्सर
क्षितिज पर नहीं मिलते
कभी अवनि और अंबर
जीत हार उलझन मन के
मोहरे हैं वो रखे चौसर पर
फिर भी खेले वो बाज़ी
मीर और मिरज़ा बनकर
चुपचाप सा गुज़रता जीवन
वो देखो
वाजिदअलीशाह
बेड़ियों मे बँधे
गुज़र रहे हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें