अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.22.2018


तुरत छिड़ गया युद्ध

 गुनगुनाकर निर्मल कर दे,
अंतर्मन का आँगन
सिर झुकाया एक नज़र भर
चमके कितना कंगन।

सोने जैसा रूप
मुद्रा की तर्ज़ डॉलर
तेरे जलवों की नक़ल पर,
चल रहे पार्लर
तीर निकले नैनों से,
या बेलन का आलिंगन
सिर झुकाया एक नज़र भर
चमके कितना कंगन।

रतनारी आँखें मौन,
ज्यों निकले अंगार
कुरूप समझे सबको
किये सोला सिंगार
टीका करे सास-ननद की
टीका करे सुहागन
सिर झुकाया एक नज़र भर
चमके कितना कंगन।

पल में बुद्ध बन जाती
पल में होती क्रुद्ध
आलिंगन अभिसार,
लो तुरत छिड़ गया युद्ध
रूठी फिर तो ख़ैर नहीं,
विकराल रूपा जोगन
सिर झुकाया एक नज़र भर
चमके कितना कंगन।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें