अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.15.2007
 
काश ! हम कबूतरबाज होते.....
गुरमीत बेदी

यकीन मानिए, कई बार खुद पर बहुत गुस्सा आता है। गुस्से के आलम में यह समझ नहीं आता कि खुद को क्या-क्या न कर लें। अब लेटेस्ट गुस्सा इस बात पर आ रहा है कि हम इस दुनिया में आकर कलमघिस्सू ही क्यों बने, कबूतरबाज क्यों नहीं बन लिए! अगर लेखक बनकर हम कागजी घोड़े दौड़ा सकते हैं तो क्या सांसद बनकर कबूतरबाजी नहीं कर सकते थे? जितनी कठिन विद्या लेखन है, उतनी कठिन विद्या कबूतरबाजी थोड़े ही है? जितना रिस्क दूसरों की रचनाएँ चोरी करके अपने नाम से छपवाने में है, उतना रिस्क कबूतरबाजी में कहाँ है? कबूतरबाजी में तो कोई विरला ही पकड़ा जाता है लेकिन साहित्य में चोरी और सीनाजोरी आखिर कितने दिन चल सकती है? कब तक बकरे की माँ खैर मना सकती है?

वैसा देखा जाए तो सिंपल सांसदगिरी में भी कोई खास स्कोप नहीं है। आप अगर सवाल पूछने के पैसे नहीं लेते, सांसदनिधि में से पैसे नहीं बनाते, कोई गैस एजैंसी या कोई पैट्रोल पम्प नहीं जुगड़वाते, या किसी को दिलवाने के एवज में घूस नहीं लेते, विदेशी दौरे पर जाकर वहाँ कोई ’डील‘ नहीं करते तो फिर क्या फायदा ऐसी सांसदगिरी का? ऐसा सांसद बनकर संसद का कीमती समय बर्बाद करने से तो बेहतर है कि सरकारी कर्मचारी बनकर लोकल लेवल की राजनीति कर ली जाए। सांसद तो वह होता है जो संसद के वेतन-भत्ते लेने के अलावा कबूतरबाजी भी करे। दूसरों की बीवियों को अपनी पत्नी बताकर कभी कनाडा तो कभी टोरटों की उड़ान भर। उड़ते-उड़ते पंख थक जाएँ तो इंडियन वियाग्रा खा ले। फिर दुगने जोश से सरहदें लाँघे।

अब देखो न! जितना पैसा कबूतरबाजी में है, उतना संसद में सवाल पूछने का थोड़े ही है। सवाल पूछने के बीस-तीस हजार या ज्यादा से ज्यादा पचास हजार मिल जाते होंगे। इतने पैसों से तो महिला मित्रों के ही खर्चे ही पूरे नहीं होते। एक सांसद के और भी छतीस सौ खर्चे होते हैं। उन्हें पूरा करने के लिए दिन-रात चिंतन करना पडता है...कमाई के नए -नए सोरस और नए-नए स्कोप तलाशने पड़ते हैं। कबूतरबाजी से बढ़िया स्कोप एक सांसद के लिए और क्या हो सकता है? कबूतरबाजी में तीस लाख तो एक ही झटके में मिल जाते हैं। हो सकता है कि इससे ज्यादा भी कमाई भी हो जाती हो? अब हम सांसद नहीं हैं न, इसलिए एक्चुअल रेट बता नहीं सकते। कटारा भाई के हवाले से कह सकते हैं कि तीस लाख से कम तो क्या मिलते होंगे। हो सकता है कि कुछ सांसद इससे ज्यादा रेट भी वसूलते हों। जनसेवक क्या नहीं कर सकते? कबूतरबाजी में वैसे भी इधर का माल उधर ही तो पहुँचाना होता है। माल को इधर- उधर करना वैसे भी कोई मुश्किल काम नहीं है। अगर पुल के निर्माण के लिए आये सरकारी सीमेंट, बजरी, रेता जैसी निर्जीव सामग्री को अपनी कोठी के निर्माण में इस्तेमाल किया जा सकता है तो दूसरों की बीवी जैसी सजीव सामग्री को इधर से उधर क्यों नहीं भेजा जा सकता?

यकीन मानिए, हम लेखक न होकर अगर कबूतरबाज होते तो हमारी पाँचों उँगलियाँ घी में और सिर कढ़ाई में होता। लक्ष्मी हमारे आगे-पीछे घूमती और हम लक्ष्मी के वाहन में दूसरों को सैर करवाते। पहले हम जनसेवक बनकर इलैक्शन लड़ते, फिर संसद में पहुँचते और फिर डायरैक्टली कबूतरबाजी के धंधे में उतर जाते। अपनी लगन, मेहनत, कर्मठता और विल पावॅर के बलबूते कबूतरबाजी को हम एक मार्डन उद्योग की शक्ल देते और इस उद्योग में विदेशी पूँजी निवेश को आमंत्रित करते। शुरूआती स्टेज में कबूतरबाजी का एक आफिस खोलकर बाकायदा हाई-फाई स्टाफ रखते जिसमें एक खूबसूरत स्टैनो, एक खूबसूरत रिसैप्शनिस्ट और एक खूबसूरत फीमेल पीअन होती। कई पात्र लोगों को हम रोज़गार देते। जिनके लिए इंडिया में रोज़गार के अवसर नहीं होते, उन्हें हम कबूतरबाजी के ज़रिए सात समंदर पार भेज देते। इससे एक पंथ - दो काज होते। एक तो हम अपने देश से बेरोज़गारी दूर कर देते और दूसरा विदेशी मुद्रा डायरैक्टली हमारी गोद में आ जाती। हम ज्यादातर सांसदों को अपने इस उद्योग का भागीदार बनाते। सांसद बहुत इज्जतदार प्राणी होता है। हम उसे कबूतरबाज बनाकर उसकी व उसकी पार्टी की रैपुटेशन और बढ़ाते। हम सरकार से यह माँग करते कि कबूतरबाजी का हक सिर्फ और सिर्फ सांसद को होना चाहिए, दूसरा धंधा करने वालों को कबूतरबाजी की कतई अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि इससे यह धंधा बदनाम होता है। सांसदों के लिए बाकायदा कबतूरबाजी के रिफ्रैशर कोर्स आयोजित करवाए जाते। उन्हें कबतूरबाजी की लैटेस्ट तकनीक सिखाई जाती। संसद के सत्र में यही गाना लगातार गूँजता रहता कि ......कबूतर जा...जा ...कबूतर जा...।

लेकिन रोना तो इस बात का है कि हम इस मुल्क में रहते हुए यह भी नहीं जान पाए कि जो सुख कबूतरबाजी में है, वह कबूतर उड़ते देखने में कहाँ?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें