अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.26.2017


पीठ पर हिमालय

वह ढोता है बोरियाँ
उठाता है गठरी
कभी कभी जबाव देने लगती है ठठरी
लेकिन ऋतुओं का रोना नहीं रोता
वह
क्या जेठ क्या माघ
सब सूद खोर की तरह घाघ
लेकिन कर्ज़ के मर्ज़
की दवा है कहाँ
है भी तो दे कौन
ग़रीब चुप अमीर मौन
घर में गो जवान बेटियाँ
एक अपाहिज पुत्र
एक अंधी माँ
अर्धांगिनी साथ में /आधी
राह भी नहीं नाप सकी
अब तो संगिनी है लाचारी
रात दिन की मित्र बेचारी
अमीरी की कब्र पर
ग़रीबी की धूप
टूटी आशा, बिखरे विश्वास
पल पल उच्छ्वास
अपनी ही पीठ पर ढो रहा
अपनी ही लाश
जीवन की हताश
इतनी भारी
मानो पीठ पर हिमालय


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें