अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.08.2015


कभी रातों को वो जागे...

कभी रातों को वो जागे कभी बेज़ार हो जाए
करिश्मा हो कोई ऐसा उसे भी प्यार हो जाए

मेरे मालिक अता कर दे मुझे तौफ़ीक़ बस इतनी
ज़बां से कुछ नहीं बोलूँ मगर इज़हार हो जाए

मुहब्बत हो गई है तो नज़र आए निगाहों में
करूँ जब बंद आँखें मैं तेरा दीदार हो जाए

तुम्हें हम चाहते हैं क्या तुम्हें अच्छा नहीं लगता
अगर ये भी ख़ता है तो ख़ता सौ बार हो जाए

कई दिन तक नज़र से दूर रहना भी नहीं अच्छा
कहीं ऐसा न हो ये फ़ासला दीवार हो जाए

किसी का बनके जीने में मज़ा कुछ और होता है
किसी के इश्क़ पे दिल को अगर एतबार हो जाए

लुटाकर दिल की दौलत आ गया फ़ुटपाथ पर लेकिन
वो फिर से चाहता है इश्क़ का बीमार हो जाए


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें