अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
तेरी रहमतों में सहर नहीं
देवी नागरानी


तेरी रहमतों में सहर नहीं
मेरी बंदगी में असर नहीं?

जिसकी रहे नेकी निहाँ
कहीं कोई ऐसा बशर नहीं?

जिसे धूप दुख की न छू सके
कोई ऐसा दुनियाँ में घर नहीं?

तन्हाई, साया साथ है
बेदर्द खुशियाँ मगर नहीं।

जिसे लोग कहते हैं ज़िंदगी
देवी इतनी आसां सफ़र नहीं।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें