अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
ख़लिश से गुज़रते रहे जो
देवी नागरानी


ख़लिश से उमर भर गुज़रते जो आए
उन्हें अन्त वेले सुमन क्यों सजाए।।

सदा नफ़रतों के चुभे ख़ार जिनको,
उन्हें प्यार कर क्यों है खुद को रुलाए।।

इतना सजाओ न फूलों से मुझको
कली के नयन की नमी भीग जाए।।

न आँसू न आहें कभी राह मेरी
न मर्जी से अपनी कभी रोक पाए।।

सहारे बिना भी न उठा जनाजा,
सहारा दिया कल जिन्हें, वो उठाए।।

दिया मान अपमान जो भी ऐ देवी!
वही अंत में संग अपने ही जाए।।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें