अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

झूमकर नाचकर गीत गाओ
देवी नागरानी


झूमकर नाचकर गीत गाओ
सात रंगों से जीवन सजाओ

पर्व पावन है होली का आया
भाईचारे से इसको मनाओ

हर तरफ़ शबनमी नूर छलके
आसमाँ को ज़मीं पर ले आओ

लाल, पीले, हरे, नीले चहरे
प्यार का रंग उनमें मिलाओ

देवी चहरे हैं रौशन सभी के
दीप विश्वास के सब जलाओ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें