अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
घर में वो जब भी आया होगा
देवी नागरानी

घर में वो जब भी आया होगा
खुशबू से घर महका होगा।

उसने जुल्फ़ को झटका होगा
प्यार का सावन बरसा होगा।

साँसों में है उसकी खुश्बू
इस रह से वो गुज़रा होगा।

कलियाँ सारी मुस्काती हैं
उनपे यौवन आया होगा।

झन झन झन झनकार करे दिल
उसने का साज़ बजाया होगा।

मुझको सँवरता देखके दर्पण
मन ही मन शरमाया होगा।

दिल के दर्पण में ऐ 'देवी'
अक्स उसीका आया होगा।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें