अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
दिल न मुझसे कभी ख़फा होता
देवी नागरानी

 दिल न मुझसे कभी ख़फा होता
उसका माना, अगर कहा होता।

यूँ न ख़ामोशियाँ सिसकतीं फिर
दर्द गर दर्द की दवा होता।

वो समझते ज़रूर दुख मेरा
दर्द ने गर उन्हें छुआ होता।

याद की शाख पर जो पंछी था
साथ मुझको भी ले उड़ा होता।

गर दवा कारगर न हो पाई
कुछ दुआ का असर हुआ होता।

दर बदर यूँ न घर से हम होते
मंज़िलों का अगर पता होता।

यूँ भटकती न राह में देवी
साथ उसका अगर रहा होता।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें