अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.01.2014


तेरी हर बात पर हम ऐतबार करते रहे

तेरी हर बात पर हम ऐतबार करते रहे
तुम हमें छलते रहे, हम तुमसे प्यार करते रहे।

कोशिशें करते तो मंज़िल ज़रूर मिल जाती
मगर अफ़सोस तुम वायदे हज़ार करते रहे।

नाम उनको भी मेरा याद तलक नहीं आया
जिनकी हस्ती हम ख़ुद में शुमार करते रहे।

मुझको मालूम था तुम नहीं आओगे फिर भी
ज़िंदा उम्मीद लिये हम इन्तिज़ार करते रहे।

ज़िन्दगी यूँ तो गुज़र रही है पहले की तरह
पर ज़ख़्म पिछले कुछ ज़ीस्त ख्वार करते रहे।

एक घर में कहकहे और शहनाई की आवाज़
'दीपक' अरमान मेरा बस तार - तार करते रहे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें