अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.06.2018


छुआछूत

'अ' पहली बार अपने दोस्त 'ब' के घर गया, वहाँ देखकर उसने कहा, "तुम्हारा घर कितना शानदार है - साफ़ और चमकदार।"

"सरकार ने दिया है, पुरखों ने जितना अस्पृश्यता को सहा है, उसके मुक़ाबले में आरक्षण से मिली नौकरी कुछ भी नहीं है, आओ चाय पीते हैं।"

चाय आयी, लेकिन लाने वाले को देखते ही 'ब' खड़ा हो गया, और दूर से चिल्लाया, "चाय वहीं रखो...और चले जाओ....।"

'अ' ने पूछा, "क्या हो गया?"

"अरे! यही घर का शौचालय साफ़ करता है और यही चाय ला रहा था!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें