अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.26.2014


तरक्की

जनता ने,
मंत्री महोदय से पूछा -
"आपके आश्वासनों के सिवा
क्या हुई है तरक्की?"

तो जवाब में
मंत्री जी मुस्कराए और बोले -
"क्यूँ नहीं, क्यूँ नहीं,
मेरे मंत्री बनने के बाद
हुई है काफी प्रगति -
"आम के पौधे, पेड़ हो गये हैं,
गली के पिल्ले शेर हो गये हैं'!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें