अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.18.2014


समस्या का समाधान

 देखो मेरे बेटा, मेरे अज़ीज़!
न जाने आज सुबह
किसका मुँह देखकर उठा था मैं,
कि सारा दिन खाना नहीं हुआ नसीब!

यह सुनकर तत्काल बोला मेरा बेटा -
"चाहते हो 'गर' अपनी समस्या का समाधान
तो मेरी मानो और अपने 'बेडरूम' से,
दीवार पर लगे आईने को, तुरंत दो हटा!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें