अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.18.2014


फिर मिलेंगे!



ख़ुदा, बचाये,
आजकल के ट्रकों से,
जो टक्कर
मारकर,
सिर फाड़ कर,
कहते निकल जाते हैं-
फिर मिलेंगे!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें