अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.10.2016


नेता जी!

नेता जी,
पिछले कुछ दिनों से,
पौष्टिक भोजन खाकर,
अपना वज़न बढ़ा रहे थे,
क्योंकि कुछ दिनों बाद,
वह दिन आना था
जब उन्हें,
नोटों से तोला जाना था!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें