अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.18.2014


हवालात

मैंने एक दरोगा से पूछा -
"भाई, जेल को
हिन्दी में हवालात
क्यूँ लिखते हैं?"
तो
जवाब में दरोगा जी बोले -
"क्योंकि, जेल में खाने को,
सिर्फ़
'हवा' और 'लात' मिलते हैं!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें