अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.10.2016


अहसास!

मुझे
उनकी यह बात
बहुत अखरती है,

मुझे...
समय से पहले
बूढ़ा करती हैं
मेरी ...
आत्मा को,
झँझोड़ती है
जब...
कुछ हम-उम्र महिलायें,
दो-तीन बच्चो वाली अम्मायें
मुझे...
अंकल-अंकल करती हैं!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें