अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.16.2017


नयी मोहब्बत

नयी नयी है अभी मोहब्बत
नया नया सा बदलाव है
ज़िन्दगी की रफ़्तार में
अब थोड़ा सा ठहराव है

कि मुरझाये हुए फूल भी
मुझे महकने से लगे हैं
क़दम जो बढ़ते थे शान से
वो भी बहकने से लगे है

मौसमों ने खेली है होली
या मोहब्बत का असर है
सूरज बिखेर रहा है चांदनी
चंदा गरम हो, हुआ बेसबर है

अभी हक़ीक़त को दरकिनार कर
ख़्वाबों की दुनिया में उड़ रहा हूँ
नयी नयी सी सुबह मिली है
अंगड़ाइयाँ ले मैं उठ रहा हूँ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें